सीएससी ने बदला 1 लाख गांवों को डिजिटल गांवों में

DIGIMAIL NEWS

सीएससी ने देश में लगभग 700 डिजिटल गांवों की स्थापना की है और दो चरण के मॉडल में इसे एक लाख तक विस्तारित करने की योजना है। पहले वर्ष में लगभग 50,000 डिजिटल गांवों को स्थापित करने की योजना बनाई जा रही है और बाकी परियोजना दूसरे चरण में होगी ।

सामान्य रूप से, एक डिजिटल गांव का मतलब है कि इसमें एक डिजिटल बैंकर, एक डिजिटल डॉक्टर और इंटरनेट वाईफाई एक्सेस प्वाइंट वाला एक डिजिटल शिक्षक होगा जिसे सीएससी के माध्यम से बढ़ाया जाएगा।

एक डिजिटल गांव में प्रत्येक सीएससी केंद्र में विभिन्न डिजिटल कोर्स के अलावा नागरिकों को ऑनलाइन सेवाएं प्रदान करने के लिए 5-10 कंप्यूटर होंगे। इसके अलावा, एलईडी असेंबली के लिए छोटी इकाइयाँ, सेनेटरी पैड्स और फ़ोटोग्राफ़ी लैब की स्थापना की जाएगी, जिससे रोज़गार भी पैदा होगा। एक ग्राम-स्तरीय उद्यमी (वीएलई ) सीएससी इकाई का संचालन और प्रबंधन करता है और उसे एक लेनदेन मॉडल के आधार पर भुगतान किया जाता है। वीएलई को आधारभूत संरचना स्थापित करने में निवेश करने की आवश्यकता है। देश भर में 3.5 लाख सीएससी संचालन में से जिसमें से लगभग 2.20 लाख ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। डिजीगांव परियोजना 2017 में शुरू की गई थी। यह ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य और शिक्षा सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए तैयार की गई थी।

 

CSC TO TRANSFORM 1 LAKH VILLAGES INTO DIGITAL VILLAGES

 

CSC has set up around 700 digital villages in the country and plans to expand that to a lakh in a two phase model. In the first year around 50,000 digital villages are being planned to set up and the rest in the second phase of the project.

Conceptually, a digital village means it will have a digital banker, a digital doctor and a digital teacher with internet WiFi access point which will be extended through CSC.

Every CSC centre at a digital village will have 5-10 computers for providing online services to citizens, apart from various digital course offerings. Apart from this, small units for LED assembly, manufacturing of sanitary pads and photography lab will be set up, which will generate employment as well. A village-level entrepreneur (VLE) operates and manages the CSC unit and is paid based on a transaction model. VLE needs to invest in setting up the infrastructure.

Out of 3.5 lakh CSCs operating across the country, about 2.20 lakh are in the rural areas. The DigiGaon project was started in 2017. It was formulated to improve health and education services in rural areas, provision of community access to IT-enabled resource centre, Wifi and LED street lighting at a commonplace in the village to create a conducive environment for digital literacy, financial inclusion and digital access to knowledge and services.

17 thoughts on “सीएससी ने बदला 1 लाख गांवों को डिजिटल गांवों में

  1. SIR I AM INTRESTED TO DO DIGI GAON IN MY AREA, MY NAME DEORAJ RAI, VILLAGE – KUMAI NAYA BUSTY, P.O. KUMAI, GRAM PANCHTAY- KUMAI,BLOCK- GORUBATHAN, DIST DARJEELING, WEST BENGAL, SIR MERA CIBIL NAGITIVE HAI HOE TO INPROVE MY CIBIL PROFIT PLEASE HELP ME SIR , THANKS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *